Dil Shayari Zakhmi Dil Shayari Diljale Dillagi Shayari

उदास हूँ पर तुझसे नाराज़ नहीं
तेरे दिल में हूँ पर तेरे पास नहीं
वैसे तो सब कुछ है मेरे पास
पर तेरे जैसा कोई खास नहीं

Dil shayari

Dil shayari

WO SHAAM KI MAHEFIL HI KIYA
JISME PARWANA JAL KAR KHAAK NA HU
MAZA TU TAB AATA HAI CHAHAT KA YAAR
JAB DIL TU JALE MAGAR KHAAK NA HU

Dil shayari Zakhmi Dil shayari

वो शाम की महेफिल की किया
जिसमे परवाना जल कर ख़ाक न हो
मज़ा तू तब आता है चाहत का यार
जब दिल तो जले मगर ख़ाक न हो

UDAS HOON PAR TUJHSE NARAZ NAHI
TERE DIL MEIN HOON PAR TERE PASS NAHI
WAISE TO SAB KUCH HAI MERE PASS
PAR TERE JAISA KOI KHASS NAHI

NAZAR SE NAZAR KI MULAQAT DEKHI HAI
PIYAAR MEIN HOTE HUE TEERON KI BARSAAT DEKHI HAI
YUN TO LAKHON DEKHE HAIN HUMNE DIL LAGANE WALE
PAR TERI CHAHAT MEIN HUMNE KOI BAAT KHAAS DEKHI HAI

Zakhmi Dil shayari

Zakhmi Dil shayari

नज़र से नज़र की मुलाक़ात देखी है
पियार में होते हुए तीरों की बरसात देखी है
यूँ तो लाखों देखे है हमने दिल लगाने वाले
पर तेरी चाहत में हमने बात कोई खास देखी है

dil shayari

KUCH ULJHEN SAWALON SE DARTA HAI DIL
NA JANE Q TANHAI MEIN GHABRATA HAI DIL
KISI KO PANA KOI BADI BAAT NAHI HAI PAR
KISI KO KHUNE SE DARTA HAI DIL

कुछ उलझे सवालों से डरता है दिल
न जाने क्यों तन्हाई में घबराता है दिल
किसी को पाना कोई बड़ी बात नहीं है पर
किसी को खोने से डरता है दिल

SABHI KO SAB KUCHH NAHI MILTA
NADI KI HAR LEHAR KO SAHIL NAHI MILTA
YEH DIL WALO KI DUNIYA HAI DOST
KISI SE DIL NHI MILTA TO KOI DIL SE NAHI MILTA

सभी सब कुछ नहीं मिलता बड़ी
नदी की हर लहर को साहिल नहीं मिलता
यह दिल वालों की दुनिया है दोस्त
किसी से दिल नहीं मिलता तो कोई दिल से नहीं मिलता

QABOOL E JURM KARTE HAI SAJDAY MEIN GIR KAR
SAZAYE MAUT MANJOOR HAI PAR MOHABBAT AB NAHI
कबूल E जुर्म करते है सजदे में गिर कर
सजाए मौत मंजूर है पर मोहब्बत अब नहीं

JIS KE LIYE SAB KUCH LUTA DIYA HUMNE
WO KEHTE HAI UNKO BHULA DIYA HUMNE
GAYE THE HUM UNKE AANSU POCHNE
ILZAAM DE DIYA KI UNKO RULA DIYA HUMNE

जिस के लिए सब कुछ लुटा दिया हमने
वो कहते है उनको भुला दिया हमने
गए थे हम उनके आंसू पोछने
इलज़ाम दे दिया की उनको रुला दिया हमने

Dillagi Shayari

Dillagi Shayari

BUS PATHAR BAN KE RAHE JATA WO TAJ MAHEL
AGAR ISHQ ISE APNI PAHECHAN NA DETA
बस पत्थर बन के रह जाता वो ताज महल
अगर इश्क इसे अपनी पहेचन न देता

zakhmi dil shayari

DILLAGI MEIN DIL KO HUM KAISA ROG LAGA BAITHE
ZINDAGI KO CHOD KARKYON MAUT KO GALE LAGA BAITHE
HUMNE SAMJHA THA DIL LAGA KAR DIL KO CAIN MILEGA
AISI LAGI CHOT KE DIL KO BEDARD SE DARD LAGA BAITHE

दिल्लगी में दिल को हम कैसा रोग लगा बैठे
ज़िन्दगी को चोढ़ क्यों कूट को गले लगा बैठे
हमने समझा था दिल लगाकर दिल को चैन मिलेगा
ऐसी लगी चोट के दिल को बेदर्द से बर्ड लगा बैठे

DEKH KAR TUMHARI HASI HUM HOSH APNE GAWAAN BAITHE
DEKH KAR TUMHARI HASI HUM HOSH APNE GAWAAN BAITHE
HOSH MEIN AANE KO THE KI TUM PHIR SE MUSKURA BAITHE

देख कर तुम्हारी हसी हम होश अपने हवान बैठे
देख कर तुम्हारी हसी हम होश अपने हवान बैठे
होश में आने को हिते की तुम फिर से मुस्कुरा बैठे

WO NAHI AATI PAR NISHANI BHEJ DETI HAI
KHUWABUN MEIN DASTAA PURANI BHEJ DETI HAI
KITNE MITHE HAI USKI YAADON KA MANJAR
KABHI KABHI AANKHUN MEIN PAANI BHEJ DETI HAI

वो नहीं आती पर निशानी भेज देती है
खुवाबों में दास्ताँ पुरानी भेज देती है
कितने मीठे है उसकी यादों के मंजर
कभी कभी आँखों में पानी भेज देती है

shayari Diljale

shayari Diljale

INTEZAAR RAHETA HAI HAR SHAAM TERA
RAATEIN KATTI HAI LEKAR NAAM TERA
MUDDAT SE BAITHA HUN YE AAS PAALE
KAL AAYEGA KOI PAIGAM TERA

diljale shayari

इंतज़ार रहेता है हर शाम तेरा
रातें कटती है ले कर नाम तेरा
मुद्दत से बैठा हूँ ये आस पाले
कल आएगा कोई पैगाम तेरा

TERI DHAKAN HI ZINDAGI KA KISSA HAI MERA
TO ZINDAGI KA EK AHEM HISSA HAI MERA
MERI MOHABBAT TUJH SE SIRF LAFJUN KI NAHI HAI
TERI RUH SE RUH TAK KA RISHTA HAI MERA

तेरी धड़कन ही ज़िन्दगी का किस्सा है मेरा
तो ज़िन्दगी का एक अहम् हिस्सा है मेरा
मेरी मोहब्बत तुझे से सिर्फ लफ्जों की नहीं है
तेरी रूह से रूह का रिश्ता है मेरा

MAHEFIL MEIN KUCH TO SUNANA PADTA HAI
GUM CHUPA KAR MUSKURANA PADTA HAI
KABHI UNKE HUM BHI THE DOST
AAJ KAL UNHE YAAD DILANA PADTA HAI

महेफिल में कुछ तो सुनना पड़ता है
गम छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है
कभी उनके हम भी थे दोस्त
आज कल उन्हे याद दिलाना पड़ता है

TERE KHAT MEIN ISHQ KI GAWAHI AAJ BHI HAI
HURF DHUNDLE HU GAYE HAI MAGR SIYAHI AAJ BHI HAI
तेरे ख़त में इश्क की गवाही आज भी है
हर्फ़ धुंधले हो गए है मगर स्याही आज भी है

shayari dil se dil tak

shayari dil se dil tak

MAT KAHO KI HAME KITNA YAAD KIYA KARTE HAI
AAPKE MASSEGE KE INTEZAAR ME JIYA KARTE HAI
AGAR NA AYE KABHI MESSAGE AAPKE TO
PURANA HE PADKE MUSKURA LIYA KARTE HAI

Dillagi Shayari

मत कहो की हमें कितना यद् किया करते है
आपके मेसेज के इंतज़ार में जिया करते है
अगर न आये कभी मेसेज आपके तो
पुराना ही पदके मुस्कुरा लिया करते है

LOG JATLE RAHE MERI MUSKAAN PAR
MAINE DARD KI APNE NUMAISH NA KI
JAB JAHAN JO MILA APNA LIYA
JO NA MILA USKI KHUWAHISK NA KI

लोग जलते है रहे मेरी मुस्कान पर
मैंने दर्द की अपने नुमाइश न की
जब जहाँ मिला पाने लिया
जो न मिला उसकी खुवाहिश न की
BOHUT UDAAS HAI KOI TERE JAANE SE
HU SAKE TO LAUT AA KISI BAHANE SE
TU LAAKH KHAFA SAHI MAGAR
EK BAAR TO DEKH KOI TOOTH GAYA HAI
TERE ROOTH JAANE SE

बहुत उदास है कोई तेरे जाने से
हो सके तो लौट आ किसी बहाने से
तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देख
कोई टूट गया है तेरे रूठ जाने से

MAN KARTA HAI APNE HAATH PAR MISS YOU LIKHUN
AUR TERE KAAN KE NICHE MAARO
TAAKI TUMHE BHI PATA CHALE TUMHARI
YAADE MEIN KITNI TAKLEEF HOTI HAI

मन करता है अपने आठ पर MISS YOU लिखूं
और तेरे कान के निचे मारू
ताकि तुम्हे भी पता चले तुम्हारी
यादे कितनी तल्लीफ देती है