Family Shayari Priwar Shayari Happy Family Shayari

बेमतलब की जिन्दगी का अब सिलसिला खत्म…
अब जिस तरह की दुनिया उसी तरह के हम

बड़े अनमोल है ये खून के रिश्तें इनको तू बेकार ना कर,
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई घर के आँगन में दीवार ना कर

Family Shayari

Family Shayari

ना कोई राह आसान चाहिए,
ना ही हमें कोई पहचान चाहिए,
एक ही चीज माँगते है रोज भगवान से
अपनों के चेहरे पर हर पल प्यारी से मुस्कान चाहिए

Family Shayari

सब ने पूछा बहु दहेज़ में क्या क्या लाई,
किसी ने ये न पूछा बेटी क्या छोड़ आई

 Shayari on Family

Shayari on Family

मुझे मोहब्बत है अपने हाथों
की सब उँगलियों से,
ना जाने कौन से ऊँगली पकड़ के
“माँ” ने मुझे चलना सिखाया होगा

Shayari on Family

जिन्दगी में किसी का साथ काफी है,
कंधे पर किसी का हाथ काफी हैं,
दूर हो या पास फ़र्क नही पड़ता,
सच्चे रिश्तों का तो बस एहसास काफ़ी हैं

अजनबी दुनिया की उलझी हुई से राहों में,
जाने कैसे फंस गई रिश्तों की गुफाओं में,
मेरी साँसों पर भी मेरे अपने हक़ जताते हैं,
बहुत घुटन हैं मेरे आशियाने की हवाओं में

Priwar shayari

Priwar shayari

माँ-बाप का दिल जीत लो,
कामयाब हो जाओगे,
वरना सारी दुनिया जीत
कर भी हार जाओगे

Family Shayari In Hindi

साथ नही रहने से रिश्ते नही टूटा करते,
वक्त की धुंध से लम्हें नही टूटा करते,
लोग कहते हैं मेरा सपना टूट गया,
टूटी नींद हैं सपने नही टूटा करते

घुट-घुट कर जीता हुआ आदमी एक दिन,
अचानक गुस्से पर काबू नही रख पाया,
कह गया जब अपनों को वह बुरा भला,
फिर रो-रोकर अपने किये पर पछताया…

यहाँ जरूरतों के हिसाब से सब बदलते नकाब हैं,
अपने गुनाहों पर सौ परदे डालकर…
हर शख्स कहता हैं कि जमाना बड़ा खराब हैं…

हर ख़ुशी नही मिलती मोबाइल के पास,
कुछ वक्त बैठा करों माँ-बाप के साथ…

आपको पता हैं प्रेम अँधा क्यों होता हैं?
क्योकि आपकी “माँ” ने आपका चेहरा
देखने से पहले आपसे प्रेम करना शुरू
कर दिया था…

“परिवार” प्यार का दूसरा नाम हैं,
अपने परिवार को समय दीजिये
इससे प्रेम और विश्वास का रिश्ता
मजबूत बनता हैं…
याद रखना कही जिन्दगी की
भाग-दौड़ में परिवार ना छूट जाए…

Priwar shayari in hindi

Priwar shayari in hindi

रिश्तों को मजबूत बनाने के लिए
एक छोटा सा उसूल बनाते हैं,
रोज कुछ अच्छा याद रखते हैं
और कुछ बुरा भूल जाते हैं…

happy Family Shayari

दोस्त की दोस्ती में कभी कोई रूल नही होता हैं,
और ये सिखाने के लिए कोई स्कूल नही होता हैं…

यूँ ही न अपने मिजाज को चिडचिडा कीजिये,
कोई बात छोटी करें तो दिल बड़ा कीजिये