सैड शायरी

Sad Shayari मोहब्बत ऐसी थी कि उनको बता न सके हम
चोट दिल पे थी इसलिए दिखा न सके हम
हम चाहते तो नही थे उससे दूर जाना
मगर दूरी इतनी थी की उसे हम मिटा न सके

Sad Shayari

Sad Shayari

ऐ बेवफा सांस लेने से तेरी याद आती बहुत है
ऐ बेवफा सांस न लूँ तो भी मेरी जान जाती है
मैं कैसे कह दूं कि मैं सांस से जिंदा हूँ मै
ये सांस भी तो तेरी याद आने के ही बाद आती है

Sad Shayari हमने रस्म रिवाज़ों से बग़ावत की है
हमने वेपन्हा उनसे मोहब्बत की है
दुआओं में जिसे था कभी मांगा
आज उसी ने जुदा होने की चाहत की है

Very Sad Shayari

Very Sad Shayari

जब मोहब्बत ही नही की तो रोकते क्यों हो
खामोशियों में मेरे लिए सोचते क्यों हो
जब रास्ते हो गए अलग तो अब जाने दो मुझे
कब लौटकर आओगे ये पूछते क्यों हो

Sad Shayari मुझे उससे कोई शिकवा नही न ही गिला है
मेरे दर्द की अब न ही कोई दवा है
बहुत आँसू बहाये है उसके लिए
जिसे खुदा ने मेरे लिये बनाया ही नही है

इस दुनिया से तो हम रिश्ता तोड़ जाएंगे
तेरे यादों का एक शहर छोड़ जाएंगे
वेबफा तू मुझे सताएगा कितना
एक दिन तुझसे हमेशा के लिए मुह मोड़ जाएंगे

Sad Love Shayari

Sad Love Shayari

वो हम पर हर इल्ज़ाम लगाते हैं
वो हर ख़ता हमे बताते है
हम तो बस चुप रहतें है क्योंकि
वो हम पे अपना हक जताते हैं

Sad Shayari उम्र भर के गमो का पैगाम दे गया
हमे तो वो वेबफा का इल्ज़ाम दे गया
चाहा था जिसे कभी टूटकर हमने
वही हमे तन्हाईयों के सैलाब दे गया

कशिश तो बहुत है मेरे प्यार मे
लेकिन कोई है पत्थर दिल जो पिगलता नहीं
अगर मिले खुदा तो माँगूँगी उसको
सुना है ख़ुदा मरने से पहले मिलते नहीं

Hindi Sad Shayari

Hindi Sad Shayari

फूलों में भी काटें होते हैं
क्यों मोहब्बत करने वाले रोते हैं
ज़िन्दगी भर तड़पते है इश्क करने वाले
और तड़पाने वाले चैन से सोते हैं

Sad Shayari बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके
ख्यालों में किसी और को ला न सके
उसको देख के आंसू तो पोंछ लिए
लेकिन किसी औओर को देख के मुस्कुरा न सके

उनके गम में मेरी आँखें नम हो जाती हैं
लेकिन फिर भी होटों पे हंसी लानी पड़ती है
मोहब्बत तो हमने बस एक से की थी
लेकिन ये मोहब्बत जमाने से छुपानी पड़ती है

Shayari On Sad

Shayari On Sad

ऐ बेवफा थाम ले मुझको मजबूर हूँ कितना
मुझको सजा न दे मैं बेकसूर हूँ कितना
तेरी बेवफ़ाई ने कर दिया है मुझे पागल
और लोग कहतें हैं मैं मगरूर हूँ कितना

Sad Shayari उनकी चाहत तो हम भी रखते हैं
हो न हो लेकिन हम भी उनके दिल मे धड़कते हैं
वो हमें याद करें या न करें
लेकिन हम तो सिर्फ उनके लिए ही तड़पते हैं

ज़िन्दगी की भीड़ में अकेले रहे गए
उसकी जुदाई में आँसुओ के दरिया बह गए
अब हमें कौन चुप कराने वाला है
जो चुप कराते थे वही रोने को कहे गए